अभ्युदय

Just another weblog

15 Posts

10269 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4258 postid : 4

आशा

Posted On 11 Jan, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक मेहनतकश
मजदूर के लिए,
सुवह की किरण में
एक आशा होती है कि-
शाएद आज काम मिल जाये,
जिसके एवज में,
खुद की एवं बच्चों की
भूख मिट जाये |
एक प्रेयसी के मन में,
गुदगुदी होती है, यह सोच कर कि -
शाएद आज ,
प्रियतम से मिलन हो जाये |
आप्तकाम मन
इंतजार करता है कि -
शाएद निशा में
उसकी संगिनी
अंक में भर जाये |
बेसहारा आँखें,
दिन के उजाले के साथ,
इंतजार करती है कि -
शाएद उनकी खोई हुई बुढ़ापे की
लाठी आज आ जाये |
परन्तु – वे बृद्ध दंपत्ति,
जिनके ऊपर वही तथाकथित ‘ लाठी ‘
कहर बन कर, टूट चुकी है
डरते हैं – दिन के उजाले से
कि, कंही वह पुनः न आ जाए |
सोचते हैं कि -
मौत तो आती नही
साँझ ढले जल्दी,
गम भुलाने के लिए -
शाएद नींद ही आ जाए ………………|

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

371 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Destry के द्वारा
July 11, 2016

di2&e:OKs#8s30;Thank you for some other informative blog. Where else could I get that kind of information written in such an ideal approach? I\\’ve a challenge that I am just now running on, and I\\’ve been on the glance out for such information….

Piyush Pant, Haldwani के द्वारा
January 12, 2011

ये आशा ही है जो विषम परिस्थितियो मे भी जीने का सहारा बन जाती है…….. रचना के लिए बधाई…………

    abhyudaya के द्वारा
    January 12, 2011

    पन्त जी नमस्कार, प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद.

    Fanni के द्वारा
    July 12, 2016

    I am a little baffled how the design of the wo309&#lrd;s tallest tower can be credited to Adrian Smith + Gordon Gill Architecture without any reference to the design structural engineers. I know this is a general policy on Dezeen but surely this example takes it into the realms of farce…

abodhbaalak के द्वारा
January 12, 2011

aapne apne pahle hi post me dil ko chhoo lene wali kavita likhi hai. aise hi likhte rahen http://abodhbaalak.jagranjunction.com

    abhyudaya के द्वारा
    January 12, 2011

    अबोध बालक जी, आपके नाम से कन्फ्यूज हूँ | आपको पुचकारू या प्रणाम करूँ, बता देंगे to आभारी रहूँगा प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद |

    Dolley के द्वारा
    July 11, 2016

    LOLOL DAADE XAAD TIRI MAAH MAAHYADAAN MUGAN ARKAY ABKOOW GEEY AYGU SOO DHACAY RABBI HA U BAXIRAISTEE GAALA WAA ILMA LADEEYAY AAN MAQLI JIRAY ILMAHA IN LADILO WAA QALAD LKN IN SHIB LAGA DHAHO OO ISHA LAGA DAYO A KASII QALAD BADAN SIDA AY ILA TAHAYU codee: 0  0

nishamittal के द्वारा
January 12, 2011

मंच पर अच्छी कविता के साथ उपस्तिथि के लिए बधाई व स्वागत .

    abhyudaya के द्वारा
    January 13, 2011

    निशा जी, पहली प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद एवं प्रणाम !

    Davian के द्वारा
    July 12, 2016

    Nice post. I became checking consistently this blog using this program . impressed! Invaluable information especially the last component I take care of such information siiglfncantiy. I was seeking this particular data for a long time. Thank you and also good luck.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran