अभ्युदय

Just another weblog

15 Posts

10269 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4258 postid : 34

एकाकीपन

Posted On: 19 Sep, 2011 Others,लोकल टिकेट में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एकाकी जीवन का अंतिम पड़ाव
कितना कठिन,
कितना दुर्गम,
किसी ने कहा -
मनुष्य अकेला आया है
और अकेला जायेगा,
किसी ने कहा -
मनुष्य स्वतंत्र जन्मा है
परन्तु – सर्वत्र जंजीरों
से जकड़ा हुआ है |
लेकिन –
आने – जाने के बीच,
संसार के रंगमंच पर
जो अभिनय करना पड़ता है,
वह क्या संभव है –
एकाकीपन से ?
वह नाटककार
जो सृजित करता है
पात्रों को,
जिनके इर्द-गिर्द
घूमता है कथानक
क्या सृजित कर सकता है
ऐसी कथावस्तु, जिसमें -
एक ही पात्र हो ?
यदि ऐसा है,
तो –
क्या महत्व है
अभिनय का ?
क्या आधार है -
जीवन का ?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

524 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran