अभ्युदय

Just another weblog

15 Posts

10269 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4258 postid : 29

पुतला दहन शमशान में करें !

Posted On: 27 Sep, 2011 Others,लोकल टिकेट में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक चौराहे पर,
हो रहा था एक नेता का पुतला दहन |
चारों तरफ ट्रैफिक जाम,
मैंने पूंछा – यह क्या है ?
भीड़ से जबाब आया -
एक भ्रष्ट राजनेता -
जिसने देश के साथ गद्दारी की,
जनता का शोषण किया -
उसके पुतले को जला रहे हैं |
विचारधारा चल पड़ी………..
पुतला तो प्रतीक मात्र है ,
जब असली प्रतीक की -
संवेदना, उसकी नैतिकता
पहले से ही खाक हो चुकी हों
तब, क्या होगा पुतले को जलाने से ?
- क्या आपने शव को
पानी में डूबा हुआ देखा है कभी ?
क्यों वह उतराता रहता है पानी पर ?
क्योंकि
उसको डूबने के लिए जीवन चाहिए |
जल में डूबना -प्रमाण है जीवन्तता का |
जब जीवन ही नही तो -
जल उसे डुबोकर क्या करेगा ?
जब शव को बलात जल में
डुबोकर जीवित नही किया जा सकता
तो फिर –
इस पुतले को जलाकर -
हम उसके असली प्रतीक की
नैतिकता को जगा पाएंगे क्या ?
- शायद नही , क्योंकि
जगाने के लिए उसके अन्दर
कुछ शेष, प्रमाणित नही |
गाड़ियों के हार्न की आवाज से
विचारधारा टूटी |
चौराहे पर भीषण जाम का आलम …|
लोग–आकुल…व्याकुल… |
किसी को इंटरव्यू तो किसी को -
मेडिकल हैल्प की जल्दी |
———–मैंने चिल्लाकर कहा –
अरे! पुतला जलाना है, तो
शमशान में जाकर जलाओ |
वरना
इस भीड़ में फंसे कई मरीज
शमशान पहुंच जायेंगे |
पुतले का असली प्रतीक,
अन्दर से मुर्दा हो चूका है
और
मुर्दे शमशान में ही जलाये जाते हैं |
वास्तव में
पुतले के असली प्रतीक ने तो
शायद लोगों का शोषण और
उनसे विश्वासघात ही किया होगा,
परन्तु क्या
हम उसका, इस तरह दहन करके -
आमजन के कातिल -
उनका रोजगार छीनने के
दोषी नही बनते…………..????????

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

724 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran